खेल में राजनीती या राजनीती का खेल

हमारे  देश  में खेल और राजनीती दोनों ऐसे  घुले -मिले  हुए  हैं  जैसे डेल्ही  की  हवा और प्रदुषण, मोदी जी  और अच्छे  दिन , बाबा  रामदेव और स्वदेशी। क्रिकेट  के  इतने  लोकप्रिय  होने  के बावजूद हॉकी अभी भी हमारा राष्ट्रीय खेल सिर्फ इसीलिए बना हुआ है क्योंकि अब ये मैदानों  के  बजाय  खेल संघो/संस्थाओ में  खेला जाता हैं (अपने विरोधियो  के खिलाफ गोल करने के लिए) और हॉकी  स्टिक  का उपयोग अब गोल  करने के  बजाय घायल  करने  में  होता हैं।

हॉकी की गिरती  हुई  लोकप्रियता को सँभालने के लिए  कई  पूर्व  हॉकी खिलाड़ियों ने सन्नी देओल से रिक्वेस्ट की हैं की वो अपनी आगामी फिल्म “घायल वन्स अगेन’ के एक्शन सीन्स में हॉकी स्टिक  का बहुतायत से प्रयोग करे।

ghayal once

हमारे खेल संघो पर  अकसर भ्रष्टाचार , अकर्मण्यता  और तानाशाही के  आरोप  लगते  हैं  लेकिन ये आरोप निराधार किस्म के हैं क्योंकि खेल संघ भारतीय सवैंधानिक  मान्यतो के सबसे बड़े रक्षक हैं क्योंकि  यहाँ बिना किसी  दलगत, जातिगत और धार्मिक  भेदभाव के  सभी तबको  के  लोगो द्वारा समान  रूप  से  सभी खेलो और खिलाड़ियों के साथ खिलवाड किया जाता हैं.

खेलसंघो में  राजनेताओ  के प्रवेश का  विरोध भी  दुर्भावना  से प्रेरित  हैं।  राजनेता ही खिलाड़ियों  के सच्चे  शुभचिंतक हो सकते हैं क्योकि  खेल  संघो  के राजनैतिक  पदाधिकारो  से  खिलाड़ियों  को “आल-राउंडर” बनने की सीख मिलती हैं,  करोडो का भ्रष्टाचार करके भी  अपना हाज़मा सहीं रखने वाले  राजनेता ही खिलाड़ियों को हमेशा फिट रहने का मंत्र दे सकते हैं ,और तो और खिलाडी राजनेताओ से राजनीती के कुछ गुर सीखकर जल्दी ही  अपनी टीम का  कप्तान भी बन सकते हैं.

अभी हाल ही में बीजेपी ने अपने एक सांसद और पूर्व अंतर्राष्ट्रीय खिलाडी कीर्ति आज़ाद को  अपनी  ही पार्टी  के नेता  पर  खेल संघ में  भ्रष्टाचार  के आरोप लगाने  के  लिए  निलंबित कर दिया , पार्टी का  कहना हैं की उनको  भ्रष्टाचार  के आरोप  लगाने का कोई अधिकार नहीं हैं क्योंकि उन्होंने खिलाडी रहते हुए जितने  रन बनाये होंगे उससे ज़्यादा तो मोदी जी विदेशी दौरे कर चुके हैं और मार्गदर्शक  मंडल से  मदद  मांगने   के बाद भी  “कीर्ति  प्राप्त करने” और “आज़ाद रहने का” अधिकार बीजेपी के सविंधान और मजबूत आंतरिक  लोकतंत्र  के खिलाफ  हैं। कीर्ति  आज़ाद को निलंबित करने को , पार्टी भ्रष्टाचार के विरुद्ध बड़ी जीत बता रहीं हैं क्योकि पार्टी  का शुरू से मानना रहा हैं की भ्रष्टाचार एक ऐसा संक्रामक रोग हैं जो इसका खुलासा  करने से ज़्यादा फैलता है।

ddca.jpg

वहीँ कीर्ति आज़ाद का कहना है की मार्गदर्शक  मंडल से मदद मांगना  उनके  लिए  स्वाभाविक  ही था क्योंकि मार्गदर्शक मंडल बीजेपी में  बारहवे  खिलाडी (12th man)  भूमिका  निभाता हैं और  उन्होंने भी अपने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट केरियर में  ज़्यादातर  समय  यहीं  भूमिका निभाते हुए  कई ना टूटने वाले रिकॉर्ड  बनाए है ।

वहीँ केजरीवाल का कहना  था हैं की कीर्ति आज़ाद  को  बाहर निकाल  कर  बीजेपी ने  सिद्ध कर  दिया की  वो  भ्रष्टाचार में आकंठ  डूबी हैं, हालांकि उन्होंने   भूषण और यादव को पार्टी  से सिर्फ ग्लोबल वार्मिंग  के दुष्परिणामों से बचने के लिए निकाला था।

kez.jpg

 

सम्मन का सम्मान और राजनैतिक पुनर्जीवन

जब एक राजनैतिक पार्टी के अध्यक्षा और उपाध्यक्ष  को भ्रष्टाचार के  मामले  में कोर्ट से सम्मन  मिला तो  डायनासोर से भी पुरानी पार्टी  के कार्यकर्त्ता इसे सम्मन के बदले   सम्मान समझने लगे. कुछ वरिष्ठ नेताओ (जो मार्गदर्शक मंडल में रखे जाने की उम्र भी  पार कर चुके है) ने  अपनी  जाती  टीवी पर  बताए  जाने की शर्त पर मीडिया वालो से  कहाँ की , “ये मुद्दा पार्टी में ठीक उसी तरह से जान फूंक सकता हैं जिस तरीके से पार्टी  सत्ता में रहते हुए देश फूंका करती थी और  पार्टी  को इस मामले में  “जीरो -लोस्” होगा”.  लेकिन पार्टी के अध्यक्षा और उपाध्यक्ष , सम्मन  मिलने से ज़्यादा  इस  बात से  दुखी बताए जाते थे की  इस तरह  के  छोटे मामलो मे  नाम उछलने से पार्टी और परिवार की बड़े घोटाले करने की क्षमता पर सवाल न खड़े हो जाये.

पार्टी  के  सारे  कार्यकर्त्ता कोर्ट  में पेशी के दिन का ठीक ऐसे ही इंतज़ार कर रहे थे जैसे  EMI के बोझ तले दबा आम आदमी   हर महीने 1  तारीख  को  मोबाइल में सैलरी क्रेडिट होने के मैसेज  का करता हैं। इस मामले में अपने अध्यक्षा और उपाध्यक्ष का बचाव करने के बजाय न्यूज़ चैनल्स पर पार्टी के सारे  प्रवक्ता  ऐसे  आक्रामक  दिख  रहे थे  मानो उन्हें टीवी  डिबेट करने  नहीं बल्कि टी -ट्वेन्टी  मैच में पावर-प्ले  के दौरान बैटिंग  करने भेजा गया हो। पार्टी  के सारे कार्यकर्ताओ और नेताओ का  आचरण  देखकर लगता  था की  इनके घर के  सारे  “चम्मच”  इनके खिलाफ  मानहानि का दावा ना कर दे।

पूरे देश से कार्यकर्ता ,पार्टी मुख्यालय पर ऐसे जुटने लगे मानो  समुद्र मंथन के बाद वहां अमृत की बुँदे बंट रहीं हो .अन्ना  के भ्रष्टाचार  विरोधी आंदोलन  में लाखो  की  भीड़,  “जंतर -मंतर”  पर जाने  के लिए  उमड़ी थी पर मानो  इस पार्टी के कार्यकर्ताओ की भीड़ अपने नेताओ पर भ्रष्टाचार के आरोप छू -मंतर  करने के लिए  उमड़ी थी।

कोर्ट में  पेशी के दिन,   नेताओ  और कार्यकर्त्ता की  बॉडी लैंग्वेज  देखकर  ये अंदाज़ा  लगाना  मुश्किल था की  उनके  अध्यक्षा और उपाध्यक्ष भ्रष्टाचार के केस में पेशी पर जा रहे हैं या  फिर ” डांस इंडिया डांस” में  ऑडिशन देने .  कोर्ट  जाते समय में  जिस तरह से नेता और कार्यकर्त्ता  अपने अध्यक्षा और उपाध्यक्ष  को  घेर  कर  चल  रहे  थे उससे लगता था की  ये कहीं  अतिउत्साह में गोला बनाकर एकदम  गरबा   ना  खेलने ना जाये।

पार्टी   के  कुछ  जोशीले  सदस्य  आगे , अध्यक्षा और उपाध्यक्ष की तस्वीर हाथ में लिए ” तुझ में  रब  दिखता  हैं”  गाना  गाते  हुए  चल  रहे  थे।   उल्लेखनीय  हैं की  पार्टी से राजसभा टिकट की आस लगाये बैठे कुछ  समाज और देशी सेवी लोग इस गाने को पार्टी का “एंथम-सांग” बनाने  लिए “कई  बार आमरण -अनशन”  भी कर चुके हैं।

कोर्ट पहुँचते ही आरोपियों को  उतनी ही देर में  ज़मानत  मिल गई जितने देर उनको अपनी पार्टी  की अध्यक्षा और उपाध्यक्ष   बनने में लगती हैं और फिर  पार्टी के कार्यकर्ताओ ने इस अभूतपूर्व विजय का  विजयी  जुलुस  निकाला और ज़मीन पर लौट कर “नागिन- डांस” किया ताकि जनता में सन्देश दिया जा सके की पार्टी  और  इसका  नेतृत्व अभी भी ज़मीन से जुड़ा हैं।

 

 

सोशल मीडीया और प्रचलन प्रधान देश !!!

images_2.jpg

हमारा देश एक “प्रचलन – प्रधान” देश हैं और इसी क्रम में आजकल सोशल मीडिया पर हर महीने किसी ना किसी फिल्म का विरोध या समर्थन करने का प्रचलन (ट्रेंड) चल पड़ा हैं। इस ट्रेंड को देखकर लगता हैं आजकल लोग अपना नेट रिचार्ज केवल यहीं पता करने के लिए करवाते हैं की चालू महीने में उन्हें कौनसी फिल्म देखनी हैं और किसका विरोध करना हैं। ये प्रचलन इतना जोरो पर हैं की बढ़ती हुई मंहगाई को देखते हुए कई टेलीकॉम कंपनिया तो ऐसे सस्ते नेट पैक भी लांच करने पर विचार कर रहीं हैं जो सोशल साइट्स पर लोग- इन पर करने पर केवल वहीँ पोस्ट्स / ट्वीट्स दिखाए जो फिल्मो के समर्थन या विरोध से संबधित हैं ताकि वो लोग भी देशभक्त या देशविरोधी बन सके जो महीने भर 1-2 GB डेटा का खर्चा उठाकर स्मार्ट फ़ोन में अपना सर घुसाकर हुए चलते हुए भी गर्व से अपना सर उठा कर अपने को “नेटी-जन” नहीं कह पाते.

सोशल मीडिया पर चल पड़ा ये प्रचलन देश की सुरक्षा एजेंसीज के लिेए सबसे बड़ा वरदान साबित हो रहा हैं क्योंकि अब आईबी और सीबीआई जैसी गुप्तचर संस्थाओ को देश विरोधी तत्वों की जानकारी के लिए देश भर में अपने जासूस नहीं छोडने पडते, अब केवल अपने AC ऑफिस में बैठकर वो पता कर लेते की ट्विटर/फेसबुक पर फलां फिल्म को सपोर्ट करने वाले देश विरोधी हैं और ऐसे देशविरोधी तत्वों की हर गतिविधि को ट्रैक करने करने के लिए पहले की तरह देश के सारे एयरपोर्ट्स और रेलवे स्टेशन को हाई अलर्ट पर रखने की ज़रूरत नहीं पड़ती अब केवल ऐसे तत्वों के लोग- इन, लोग – आउट और फेसबुक चेक इन्स पर कड़ी निगरानी रखी जाती हैं.

cbi_0_0_0_0_0_0

इसके अलावा , इन संस्थाओ में देशभक्त ऑफिसर्स की भर्ती पहले लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के ज़रिए होती थी जिसमे बहुत समय और सरकारी धन खर्च हो जाता था लेकिन अब इन संस्थाओ में ऐसे जाबांज़ और वफादार ऑफिसर्स की भर्ती हो रहीं है जिनको सोशल मीडिया पर कम कम से 10 ऐसी देश विरोधी फिल्मो को फ्लॉप करवाने का अनुभव हो जिनके गलती से हिट हो जाने पर देश की सुरक्षा और अखंडता को खतरा उत्पन्न हो जाने और देश में आपातकाल लग जाने का सीधा खतरा था। इन संस्थाओं में भर्ती के इच्छुक में लोगो का उत्साह बना रहे इसीलिए ये संस्थाए आजकल भर्ती के समय आपके द्वारा फिल्म के विरोध में लाए गए प्रमुख हथियार (फोटोशॉप्स) की क्वालिटी नहीं केवल क्वांटिटी देख रहीं हैं और ज़्यादा से ज़्यादा लोग देश भक्ति के रास्ते चले और देशप्रेम कम ना हो इसीलिए ये संस्थाए इस तथ्य को भी इग्नोर कर रहीं हैं की आपने फिल्म का भले ही कितना भी विरोध किया हो लेकिन बाद में उस फिल्म को टोरेंट से डाउनलोड करने के लिए कितने लिंक्स बाटे थे और उस फिल्म में काम करने वाली ग्लैमरस हीरोइन के फेसबुक पेज़ पर जाकर उसके कितने फोटो लाइक किये थे।

 

AKSHAY.jpg

सोशल मीडिया पर चल रहा हैं ये प्रचलन देश के सामाजिक तानेबाने को भी मजबूती प्रदान कर रहा हैं क्योंक पहले दो लोगो में दोस्ती एक दूसरे को जानने के बाद और समय गुजारने के बाद होती थी लेकिन आजकल जल्दी से उन लोगो में दोस्ती हो जाती है जो सोशल मीडिया पर समान फिल्मो का समर्थन या विरोध करते पाये जाते हैं लेकिन ये दोस्ती तभी टिकती हैं जब आप लगातार बिना शिकायत करे और बिना थके (बिना REVITAL लिए) एक दूसरे की सभी पोस्ट्स और आपस मे एक दूसरे के सभी कॉमेंट्स लाइक और रिप्लाई करे. डिजिटल इंडिया के इस युग में शादी के लिए कुंडली मिलाने का समय दोनों पक्षों के पास नहीं होता हैं इसीलिए ये ट्रेंड आने के बाद लड़के और लड़की के गुण मिलाने के लिए केवल ये देख लिया हैं जाता हैं की वयस्क होने के बाद दोनों ने एक जैसी फिल्मो का समर्थन और विरोध किया था या नहीं।

 

images_1.jpg

लेकिन ये ट्रेंड एक दुधारी तलवार की तरह भी पेश आ रहा है इससे रिश्तो में खटास कैंडी क्रश की बिना बुलाई रिक्वेस्ट की तरह आ रहीं हैं। पिछले महीने मेरी सोसाईटी में ही रहने वाली एक ऑन्टी ने मुझसे एक साल तक बात न करने का प्रण लिया क्योंकि उनके इनबॉक्स में मेसेज करने के बाद भी मैंने एक फिल्म के सपोर्ट में पोस्ट नहीं की थी और एक साल का प्रण केवल इसीलिए क्योंकि उस फिल्म का हीरो साल में केवल ही फिल्म करता हैं. हालांकि उन ऑन्टी ने ही बाद में इनबॉक्स में मैसेज करके बताया की वो अपना प्रण तोड़ भी सकती हैं अगर मै उस फिल्म के हीरो के टीवी पर आने वाले रियलिटी शो के रिपीट टेलीकास्ट भी देखना शुरू कर दू . हालांकि मैंने उनका वो मेसेज देश में बढ़ती असहींष्णुता को बनाये रखने के लिए रीड करने के बाद वापस अनरीड कर दिया था।

images_3

राजनितिक हलको में इस ट्रेंड की चर्चा लालु-केज़रीवाल के “भरत -मिलाप” से भी ज़्यादा हैं। भाजपा का कहना हैं की ये ट्रेंड कांग्रेस में गांधी परिवार की चमचागिरी की गति से भी तेज़ी से बढ़ रहा हैं वहीँ कांग्रेस का कहना हैं की ये मोदी जी की विदेश यात्राओं की गति से भी तेज़ गति से बढ़ रहा हैं लेकिन वहीँ आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओ का कहना हैं उन्हें प्रति महीना 20,000 रुपये केवल ये ट्रेंड चलवाने के मिलते हैं, इसकी गति बताने के लिए उन्हें अगले इन्क्रीमेंट का इंतज़ार करना होगा।

इस ट्रेंड ने बोलीवुड के प्रोडूसर्स और डायरेक्टर्स की नीद, रात को स्मार्ट फ़ोन पर आने वाले नोटिफिकेशन्स से भी ज़्यादा उड़ा रखी हैं. सभी प्रोडूसर्स और डायरेक्टर्स ने इसे उदय चोपडा की एक्टिंग की तरह गंभीरता से लेते हुए ये निर्णय किया है की अपनी फिल्मो का सोशल मीडिया पर समर्थन करने वालो के नाम, फिल्म चालू होने से पहले स्क्रीन पर आने नामो में कैमरामैन से नीचे लेकिन स्पॉट बॉय से ऊपर दिखाएंगे और विरोध करने वालो का नाम फिल्म के विलेन से भी ऊपर दिखाया जायेगा।